Renaissance fact & information in hindi – पुनर्जागरण क्या है

1
59
views

आज हम जानेंगे पुनर्जागरण (Renaissance) क्या है और इसके कारण क्या है यह यूरोप के बड़े महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक है जो अतीत में यूरोप में घटित हुआ था।

Renaissance-fact-information-in-hindi-पुनर्जागरण-क्या-है

पुनर्जागरण (Renaissance)

‘रेनेसां’ का शाब्दिक अर्थ है पुनर्जन्म सन 1300 से 1600ई. का यही वह काल था जिसमे अनेक परिवर्तन हुए और इसी के प्रभाव से मध्ययुग आधुनिक युग में बदल गया पुनर्जागरण का प्रारंभ इटली में हुआ इसका एक अत्यंत महत्वपूर्ण कारण यह था की यूरोप और पूर्व के देशो के बीच हुए व्यापार के पुनरुत्थान ने इटली के शहरो को सर्वाधिक संपन्न बना दिया था यह समूचा व्यापार लगभग पूर्णतः इटली के शहरो के नियंत्रण में था।



पुनर्जागरण के कारण

धर्मयुद्ध के कारण ईसाईयों का परिचय पूर्व की इस्लाम संस्कृति से हुआ, उल्लेखनीय है की उस समय मुसलमानों का सामाजिक विकास ईसाईयों से अधिक था। इंग्लैंड, फ़्रांस आदि राष्ट्रों के अनेक विद्यार्थी काहिरा (मिस्र), कुफ्रा (लीबिया) और कार्डोना (स्पेन) आदि मुस्लिम विश्वविद्यालयों में अध्ययन के लिए गए।

वापस लौटने पर पश्चिम यूरोप के देशो में उन्होंने पूर्व के ज्ञान एवं नए विचारो का प्रसार किया, कुस्तुंतुनिया के पतन से ज्ञान-विज्ञान का प्रसार सम्पूर्ण यूरोप में हुआ। पुनर्जागरण (Renaissance) से पहले छापाखाना, कागज़, बारूद और नागरिक दिक्सूचक यंत्र आदि के आविष्कार हुए।

इससे पश्चिम, यूरोप में पुनर्जागरण (Renaissance) की गति तीव्र हुई इटली का संपन्न नगर फ्लोरेंस पुनर्जागरण (Renaissance) का प्रथम केंद्र था, इसके शासक कोसिनी मेडिसी और लारेंजो मेडिसी ‘महाप्रभु’ के नाम से विख्यात थे, क्योकि उन्होंने बहुत से विद्वानों को संरक्षण प्रदान किया।



नाविक दिक्सूचक यंत्र के अविष्कार की सहायता से कोलंबस पश्चिम की ओर से 1492 में अटलांटिक के पार पंहुचा, अनेक कठिनाइयों और खतरों का सामना करने के बाद वह भारत के बदले वेस्टइंडीज पहुँच गया उसके समय से इस नयी दुनिया की कई बार समुद्री यात्राये की गयी।

इन्ही वर्षो में पुर्तगालियो ने अन्य मार्ग द्वारा इंडीज पहुचने का प्रयत्न किया और अंततः 1498 ई. में वास्कोडीगामा ने भारत भूमि पर कदम रखा 1519 से 1522 ई. के बीच पृथ्वी के चारो ओर परिक्रमा करने का श्रेय मैगलेन को है, ऐसा करके उसने ‘पृथ्वी गोल है’ की नई धारणा को सत्य प्रमाणित किया।

इस पोस्ट में पुनर्जागरण और पुनर्जागरण के कारण को काफी ही कम शब्दों में और सरल तरीके से बताने का कोशिश किया गया है आपको अगर यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे शेयर कीजिये साथ ही अगर आपने पोस्ट यहाँ तक पढ़ लिया तो धन्यवाद 🙂

Crusade information and fact in hindi | धर्मयुद्ध क्या है | Arabian Civilization history & fact in hindi|अरब की सभ्यता | info. about oceans & facts in hindi|महासागरो की जानकारी | What is a pressure in hindi | दाब क्या है, दाब के प्रकार | भारत का वृहत मैदान और प्रायद्वीपीय भूमि |भारत का भौतिक स्वरूप

रोजाना ऐसे ही ज्ञानपूर्ण पोस्ट पढने के लिए हमारे ब्लॉग को अवश्य ही सब्सक्राइब करे सब्सक्राइब करने के लिए bell icon को click करके वेब नोटीफिकेशन को चालु कर दीजिये जिससे हमारे नए पोस्ट आते ही आपको सबसे पहले मिल जाया करेंगे 🙂

Gyanyukt.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here