Development of Capitalism & fact in hindi-पूँजीवाद का विकास

1
172
views

आज हम जानेंगे की पूँजीवाद (Capitalism) का विकास कैसे हुआ था इसके विकास के पीछे क्या-क्या मुख्य पहलु है इसके परिणाम क्या हुआ और जानेंगे पूँजीवाद से जुड़े मुख्य तथ्यों को।

Development-of-Capitalism-fact-in-hindi-पूँजीवाद-का-विकास

पूँजीवाद का विकास (Development of Capitalism)

आधुनिक युग का एक प्रमुख विशेषता पूँजीवाद (Capitalism) का उदय है, पूँजीवाद को परिभाषित करते हुए जे. एन. हाव्सन ने कहा है की पूँजीवाद (Capitalism) एक औद्योगिक संगठन है जिसमे नियोक्ताओ की एक कंपनी या एक नियोक्ता जिसके पास धन है, और वह उस धन से वह कच्चे मालो एवं उपकरणों को प्राप्त करता है तथा श्रम लगाता है, मुनाफा के लिए वृहद् पैमाने पर वस्तुओ का उत्पादन करता है।

कुलिनवर्ग के शहरो में रहने से शहरी क्षेत्रो में जमीन के मूल्य में वृद्धि इसका एक अनिवार्य परिणाम हुआ, इससे जमीन के मालिकों की आय में अप्रत्याशित वृद्धि हुई और इस प्रकार ‘अर्जित आय’ से पूँजी बनने लगी। धर्मयुद्ध के समय तथा उसके शीघ्र बाद होनेवाले वाणिज्य के अप्रत्यक्ष प्रसार के फलस्वरूप इटली के नगर इससे अधिक लाभान्वित होते थे।

इस कारण इटली के नगरो में ही आधुनिक पूँजीवाद के एक सर्वाधिक महत्वपूर्ण उपकरण – महाजनी प्रथा या बैंकिंग का पहले-पहले उदय हुआ, इस प्रकार महाजनी एक पेशा बनता गया और साथ ही आधुनिक पूँजीवाद व्यवस्था का एक अभिन्न अंग भी।



पूँजीवाद का परिणाम

पूँजीवाद (Capitalism) के उदय के पश्चात उत्पादन के तरीके में परिवर्तन होने लगा, इस प्रणाली के अंतर्गत कुछ नए उद्योग धंधे आरम्भ हो रहे थे क्योकि गिल्ड प्रणाली इन उद्योग धंधो को नहीं चला सकती थी खनिज उद्योग, मुद्रण तथा पुस्तक व्यवसाय, जहाजो का निर्माण आदि ऐसे ही उद्योग थे।

मध्यकालीन कृषि प्रणाली या मैनोरियल व्यवस्था पर पूँजीवाद (Capitalism) का प्रभाव पड़ा, अपनी जागीरो को अधिक लाभकार बनाने के उद्देश्य से अधिकतर जमींदार नगरो में रहने लगे थे तथा वाणिज्य व्यापार या अपने कार्यो में अपना अधिकांश समय बिताने लगे थे अपनी रैयतो से उन्हें जो सेवाएँ या सामाग्री आदि मिलती थी उनके बदले नकदी मालगुजारी निर्धारित कर दी गयी।

इस पोस्ट के माध्यम से पूँजीवाद (Capitalism) को बहुत ही कम शब्दों में आसान तरीके में बताने का कोशिश किया गया है अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया तो इसे शेयर करे यहाँ तक पढ़ लिए हो तो आपका धन्यवाद 🙂

Crusade information and fact in hindi | धर्मयुद्ध क्या है | Renaissance fact & information in hindi – पुनर्जागरण क्या है | Arabian Civilization history & fact in hindi|अरब की सभ्यता | भारत का वृहत मैदान और प्रायद्वीपीय भूमि |भारत का भौतिक स्वरूप | What is a pressure in hindi | दाब क्या है, दाब के प्रकार

रोजाना सभी तरह के ज्ञानपूर्ण पोस्ट पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब जरुर करे bell icon को click करके वेब नोटीफिकेशन को चालू कर दीजिये जिससे हमारा नया पोस्ट आते ही आपतक सबसे पहले पहुँच जाया करेंगे 🙂

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here