संयुक्त राष्ट्र संघ की जानकारी और तथ्य | U.N.O fact in hindi

0
185
views

संयुक्त राष्ट्र संघ का उदय

संयुक्त राष्ट्र संघ की जानकारी और तथ्य U.N.O fact in hindi बहुत ही अनोखा है जब पुरे विश्व में दो बड़े युद्ध हुए जिन्हें विश्व युद्ध कहा जाता है, इन युद्धों में विश्व के अधिकांश देश दो गुटों में बँटकर लड़ रहे थे। प्रथम विश्वयुद्ध युद्ध सन 1914 से सन 1919 तक तथा द्वितीय विश्व युद्ध सन 1939 से सन 1945 तक हुआ था, इन युद्धों में घातक हथियारों का प्रयोग हुआ। इनमे लाखो सैनिको के अलावा अनेक निर्दोष नागरिक भी मारे गए, अपार संपत्ति का नुकसान हुआ, परमाणु बम के प्रयोग ने मनुष्य जाती को खतरे में दाल दिया है। 

united nation banner, united nation, uno,  gyanyukt, gyanyukt.com
United Nation banner

जब ये युद्ध हो रहे थे तभी से इन युद्धों के भयानक परिणाम से लोगो को बचाने के लिए विभिन्न देशो के लोगो ने विचार करना शुरू कर दिया था, विश्व में विभिन्न देशो के बीच के विवादों को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने, मानव कल्याणकारी कार्यो को विश्व में बढ़ावा देने तथा परस्पर सहयोग से विकास के लिए विश्व के कई देशो ने मिल जुलकर संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना की। 




50 देशो ने 26 जून सन 1945 में एक नियमावली (चार्टर) पर हस्ताक्षर कर इस संस्था की स्थापना की, 24 अक्टूबर सन 1945 से यह संस्था विधिवत काम करने लगी इसलिए प्रतिवर्ष 24 अक्टूबर को संयुक्त राष्ट्र संघ दिवस मनाया जाता है, धीरे-धीरे अन्य देश भी इसके सदस्य बनते गए, सन 2011 की स्थिति में 193 देश इसके सदस्य है। 

संयुक्त राष्ट्र संघ के उद्देश्य

  1. विश्व में शांति और सुरक्षा बनाये रखना। 
  2. दुनिया के देशो के बीच बराबरी एवं मित्रतापूर्ण संबंध विकसित करना। 
  3. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आर्थिक सामाजिक, सांस्कृतिक एवं मानवीय समस्याओ का समाधान करना।
  4. मानव अधिकारों तथा बुनियादी स्वतंत्रताओ को प्राप्त करने में सहयोग करना।  
U.N.O Building New York
U.N.O Building New York

U.N.O के सिद्धांत

  1. आपसी विवादों को शांतिपूर्ण ढंग से सुलझाएंगे। 
  2. किसी राष्ट्र के विरुद्ध कोई राष्ट्र बल प्रयोग नहीं करेगा। 
  3. यदि कोई राष्ट्र अन्य राष्ट्र पर आक्रमण करता है तो सं. राष्ट्र संघ (U.N.O) उसका विरोध करेगा। 
  4. नियमावली की शर्तो का सभी सदस्य देश निष्ठापूर्वक पालन करेंगे। 




संघ के 6 प्रमुख अंग

  1. सामान्य सभा
  2. सुरक्षा परिषद्
  3. आर्थिक एवं सामजिक परिषद्
  4. न्याय परिषद्
  5. अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय
  6. सचिवालय

U.N.O के पाँच स्थायी सदस्य है – 1. चीन, 2. फ्रांस, 3. रूस 4. संयुक्त राज्य अमेरिका, 5. ग्रेट ब्रिटेन

विश्व के विभिन्न देशो में स्थापित कार्यालयों के द्वारा ये अंग संयुक्त राष्ट्र संघ के उद्देश्यों की पूर्ति में लगे है




विशेष संस्थाए

सामाजिक एवं आर्थिक विकास के क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का संयुक्त राष्ट्र संघ के लिए विशेष महत्व है, विकास हेतु समुचित परिस्थितियों के निर्माण के लिए संघ ने अनेक विशेष संस्थाओ की स्थापना की है जो अपने विशिष्ट क्षेत्र में कार्य करती है, ये दुनिया के विभिन्न देशो में स्वास्थ्य एवं शिक्षा के प्रसार के साथ-साथ लोगो का जीवन स्तर ऊँचा उठाने, पूर्ण रोजगार देने आदि का कार्य कर रही है। 

संयुक्त राष्ट्र संघ की कुछ विशेष संस्थाए –

  1. अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन ( International Labour Organisaton )
  2. खाद्य एवं कृषि परिषद् ( Food & Agriculture Organisation )
  3. अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ( International Monetary Fund )
  4. विश्व स्वास्थय संगठन ( World Health Organisation )
  5. युनिसेफ ( United Nation of Intrgrated Child Education Fund )
  6. यूनेस्को ( United Nation of Education Science and Culture Organisation )




Indian flag "Tiranga"
Indian flag “Tiranga”

संयुक्त राष्ट्र संघ ( U.N.O) में भारत की भूमिका

भारत संयुक्त राष्ट्र संघ (U.N.O) के संस्थापक देशो में से है, संघ के उद्देश्यों और सिधान्तो को बनाने में उसने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है भारत अनेक बार संघ के विभिन्न अंगो का सदस्य रह चूका है।  लोकतंत्र की बहाली, रंगभेद दूर करने, शांति व्यवस्था बनाने के लिए सैन्य कार्यवाही के लिए भारत ने U.N.O को सहयोग दिया है। 

चूँकि भारत में कई सामाजिक एवं आर्थिक समस्याए है, इसलिए भारत में संघ की सभी एजेंसिया विविध कार्य कर रही है, यह सभी कार्य बहुत ही उम्दा और सराहनीय है। 

भारतीय गणतंत्र की स्थापना | वाणिज्यवाद क्या है | चीन की सभ्यता

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो आप रोजाना ऐसे ही जानकारी भरे पोस्ट पढने के लिए हमारे वेबसाइट को अपने ईमेल के द्वारा ज़रूर सब्सक्राइब करे जो की बिलकुल फ्री है और साथ ही वेब नोटीफिकेशन चालू रखिये

Gyanyukt.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here