चीन की सभ्यता|Civilization of china in hindi

1
23

आज हम जानेंगे चीन की सभ्यता (Civilization of china) जो प्राचीन काल से रहा है, चीन की सभ्यता प्राचीन काल से समृद्ध रहा है इसमें अनेको प्रकार के प्रविष्टिया देखने को मिलता है।

सभ्यता

चीन में कृषि का ज्ञान ही सभ्यता का आधार बना तथा यह सभ्यता हर द्रिष्टि से एक पूर्ण विकसित सभ्यता थी, सर्वप्रथम चीनी शासक स्वयं को देश की जनता का कल्याण करक मानते थे।

द्वितीय चीनी सभ्यता में शिक्षित व्यक्ति को जितना महत्त्व,मान,सम्मान दिया जाता था,उतना अन्य किसी सभ्यता में नहीं दिया गया है,तृतीय चीनी सभ्यता समाज में मनोरंजन को विशेष स्थान प्राप्त है।



चतुर्थ चीनी सभ्यता में सर्वप्रथम रेशम के वस्त्रो का निर्माण किया गया और विश्व में इसका प्रसार किया गया।

पंचम चीनी सभ्यता कला के क्षेत्र में चीनी कलाकार सुन्दरता स्वछता का तो ध्यान रखते ही थे, साथ ही साथ कला को आनंद का श्रोत एवं मानव भावनाओ का दर्पण मानते थे।

प्राचीन चीनी सभ्यता के वासी मंगोल जाती के मानव थे तथा इसमें अन्य किसी विदेशी जाती का समावेश इस कारण नहीं हो पाया क्योकि तत्कालीन चीन में पहुचना बहुत कठिन था।

मंगोल जाती के लोग शारीरिक रूप से गोल सर और मुँह, छोटे हाथ पैर वाले होते थे, वैज्ञानिको का मानना है की लगभग पाँच लाख वर्ष पूर्व मनुष्य यहाँ रहता था जिसे ‘पेकिंग मैन’ कहा गया है।

चीन की विशाल दीवार वास्तुकला की उन्नति का प्रतिक है, इसका निर्माण महान राजा ‘शी हुआंग टी’ द्वारा कराया गया था।



‘शी हुआंग टी’ 247ई. पूर्व से 210ई. पूर्व तक शाशन में रहा, इसने कला के विकास पर काफी बल दिया था।

ईसापूर्व द्वितीय शती में कागज बनाने की कला को चीनियों ने खोजा था, चीन के बाद कागज का प्रयोग अरब जगत में आरम्भ हुआ।

अगर आपको यह पोस्ट ज्ञानपूर्ण लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिये और यह जानकारी उन तक भी पहुचाये।



साथ ही रोजाना ज्ञान से पूर्ण पोस्ट और रोजाना gk online test quiz खेलने के लिए आप हमारे वेबसाइट को सब्सक्राइब कर लीजिये जो की बिलकुल फ्री है साथ ही bell icon को click करके वेब नोटीफिकेशन को चालू कर दीजिये जिससे नया पोस्ट अपलोड होते ही आपको मिल जायेगा।

www.gyanyukt.com

1 COMMENT

Leave a Reply